रॉबर्ट नॉज़िक : अराजकता, राज्य व स्वप्नलोक

इस लेख में नॉज़िक की चर्चित पुस्तक ‘एनार्की, स्टेट एण्ड यूटोपिया’ पर तीन विद्वानों द्वारा परिचर्चा की गई है – सम्पादक (प्रथम खण्ड : जेम्स

Read more

वाल्ज़र : उदारवाद की समुदायवादी समालोचना

(माइकल वाल्ज़र के विचारों को अभिव्यक्त करने वाला यह लेख स्वयं वाल्ज़र द्वारा लिखित है. यह लेख पूरी समुदायवादी परम्परा को व्यक्त करता है. वाल्जर

Read more

हेबरमॉस और लोकतान्त्रिक सिद्धान्त

जोसेफ एल. स्टास : जुर्गेन हेबरमॉस की लोकतान्त्रिक सिद्धान्तों के प्रति प्रतिबद्धता को समझने में हमें उनकी दो महत्वपूर्ण पुस्तकों – ‘द स्ट्रक्चरल ट्रांसफार्मेशन ऑफ

Read more

 मैक्फर्सन का लोकतान्त्रिक सिद्धान्त

माइकल क्लार्क एवं रिक टिल्मैन : लोकतान्त्रिक सिद्धान्तों एवं व्यवहार का उद्भव एक लम्बी एवं श्रमसाध्य प्रक्रिया रही है. इसके बावजूद, पश्चिमी जगत में लोकतन्त्र

Read more

सिमॉन द् बुवॉ : समकालीन नारीवादी विचारक

कैरेन विन्ट्जेज़ : सिमॉन द् बुवॉ की कृति ‘दि सेकेण्ड सेक्स’ समकालीन नारीवाद के लिए एक ऐसा दार्शनिक आधार प्रदान करती है कि इसे समकालीन

Read more

ग्राम्शी : प्राधान्य का सिद्धान्त

थामस आर. बेट्स : एन्टोनियो ग्राम्शी 20वीं सदी के पूर्वाद्ध का एक महत्वपूर्ण मार्क्सवादी विचारक था. ग्राम्शी के देश इटली में उस समय मुसोलिनी के

Read more