शब्दकोश, मार्च – 2008

समावेशन (इन्क्लूजन) – समावेशन की अवधारणा एक ऐसे समाज की परिकल्पना करती है जिसमे समाज के सभी व्यक्तियों और वर्गों की शांति,स्वतंत्रता व समानता प्राप्त हो.

Read more

राज्य, नागरिक – समाज एवं लोकतंत्र

सत्य प्रकाश दास : वर्तमान सन्दर्भ में जनमानस द्वारा नागरिक समाज की अवधारणा को एक लोकतान्त्रिक सरकार के कुशल संचालन एवं क्रियान्वयन के लिये व्यापक

Read more

पूर्व-आधुनिक भारत में मन्दिरों का अपवित्रीकरण

रिचर्ड एम. ईटन : इस निबन्ध का उद्देश्य इस बात की जांच करना है कि भारत के पूर्व-आधुनिक इतिहास में किन-किन मन्दिरोंका अपवित्रीकरण हुआ था, कब

Read more

राष्ट्र : गवेषणात्मक दृष्टि

शिव विश्वनाथन : राष्ट्रीयता एवम् नस्लवाद जैसी अवधारणाएं अरुचिकर लग सकती हैं. इतिहास की पुस्तकों में राष्ट्र की अवधारणा समाज की चेतना में गहरे पैठे हुए

Read more

भारतीय राजनीति के विरोधाभास पिछड़ा अभिजन वर्ग, प्रगतिशील सामान्य वर्ग

नलिनी कान्त झा : भारतीय राजनीति का अत्यन्त रोचक तत्व इस तथ्य से परिलक्षित होता है कि भारत की राजनीति में नितान्त विरोधाभासी तत्वों का समावेश

Read more

भारतीय लोकतांत्रिक चुनौती

आशुतोष वार्ष्णेय : एक स्थापित लोकतान्त्रिक व्यवस्था के अन्तर्गत आर्थिक उदारीकरण करने में भारतीय प्रयास का आधुनिक काल में कोई सानी नहीं है. बाज़ारवाद और

Read more

भारतीय लोकतन्त्र में समावेशी राजनीति, बसपा की सोशल इंजीनियरिंग

डॉ. एके वर्मा : विगत कुछ समय से भारतीय लोकतन्त्र जातीय आधार पर मतदाताओं के विभाजन, खण्डित जनादेश, त्रिशंकु लोकसभा व विधान सभाओं, राजनीतिक दलों

Read more